डायबिटीज यानी मधुमेह से पीड़ित लोगों को डाइटरी फाइबर, ब्लड शुगर नियंत्रण में मददगार और कम ग्लिसमिक इंडेक्स वाला भोजन खाने की सलाह दी जाती है। हम आपको बता रहे हैं ऐसे अच्छे सुपर फूड्स जिनको आप अपने खाने में शामिल करके अपनी ब्लड शुगर और इंसुलिन पर नियंत्रण और मोटापा भी कम कर सकते हैं।

1.मूंगफली की खूबियां : मूंगफली और पीनट बटर का ग्लेस्मिक इंडेक्स काफी नीचे होता है इसलिए इसको खाने से ब्लड शुगर स्थिर रहती है। मूंगफली ऊर्जा से भरपूर है और भुनी हुई मूंगफली कई पोषक तत्व मौजूद हैं जिनमे खनिज ,एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिंस खास हैं।इसके अलावा मूंगफली में MUFA नाम का फैटी एसिड होता है जो कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदद करता है । मूंगफली को भूनने या फिर उबालने से उसके भीतर मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स की मात्रा बढ़ जाती है।


2.बादाम की खूबियां :: मूंगफली की तरह बादाम में भी प्रोटीन, फाइबर, कॉपर , रिबोफ्लेविन, और कैल्शियम से भरपूर है। यूं तो बादाम सभी लोगों के लिए फायदेमंद है लेकिन यह खासकर डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए भी फायदेमंद है क्योंकि बादाम का सेवन ब्लड शुगर और इंसुलिन को नियंत्रित रखता है। अनुसंधान से सामने आया है कि बादाम खाने से इंसुलिन के प्रति संवेदनशीलता बढ़ती है। बादाम मैग्नीशियम का भी एक अच्छा स्त्रोत है जो टाइप टू डायबिटीज के खतरे को रोकता है।

3.अखरोट की खूबियां :: एक रिसर्च में सामने आया था कि अखरोट खाने से टाइप टू डायबिटीज का खतरा कम होता है। वॉलनट यानी अखरोट डाइटरी फाइबर से भरपूर है जिसको खाने से खाना देरी से पचता है जिससे हमारे रक्त में जल्दी से शुगर नहीं घुलती। अखरोट इंसुलिन के प्रति प्रतिरोध पैदा करने में मददगार हैं।

4.तिल की खूबियां : तिल ऊर्जा से भरपूर है और इसके खाने से शरीर में गर्माहट महसूस होती है। तिल के 100 ग्राम दानों में 12 ग्राम फाइबर ,18 ग्राम प्रोटीन और 351 मिलीग्राम मैग्नीशियम मौजूद रहता है| अक्सर डायबिटीज से पीड़ित लोगों में लोगों के शरीर में मैग्नीशियम की कमी आ जाती है क्योंकि उनको बार बार पेशाब जाना पड़ता है | तिल का सेवन उनके लिए लाभदायक है |

5.नारियल पाउडर की खूबियां : रेशे यानी फाइबर के लिहाज से नारियल का आटा गेहूं के आटे से 10 गुना बेहतर है। आप बेसन के चीले ,मकई की रोटी या फिर मल्टीग्रेन ब्रेड में में नारियल का पाउडर डालकर खाने का गलीसमिक इंडेक्स कम कर सकते हैं। कोकोनट पाउडर में रेशे के अलावा प्रोटीन, मिनरल्स जैसे मैग्नीशियम, सेलेनियम, आयरन विटामिन-सी और विटामिन-बी भी मिलता है।

6.दालचीनी की खूबियां :
2003 मैं डायबिटीज -केयर में प्रकाशित हुए एक अनुसंधान के मुताबिक सिनेमन यानी दालचीनी टाइप-टू डायबिटीज से पीड़ित लोगों के ग्लूकोस और लिपिड स्तर  में सुधार ला सकता है। अनुसंधान में सामने आया था कि प्रतिदिन 6 ग्राम दालचीनी का सेवन करने से सिरम ग्लूकोस और कोलेस्ट्रॉल के  का स्तर कम हुआ। दालचीनी के सेवन से हमारी कोशिकाओं में इंसुलिन के प्रति क्रियाशीलता बढ़ती है।
दालचीनी में ऊर्जा ,कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम, विटामिन, विटामिन सी और विटामिन ई और डाइटरी फाइबर मौजूद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here