अगर आप किन्नू को सिर्फ एक खट्टा-मीठा फल मानते हैं तो शायद आप गलत सोच रहे हैं। किन्नू में मौजूद गुणों की वजह से इस फल की गिनती संसार के सबसे सेहतमंद फलों  में की जाती है।

किन्नू खाने से न केवल इम्यूनिटी ( रोग प्रतिरोधक क्षमता) बढ़ती है बल्कि यह फल कोशिकाओं का पुनर्निर्माण और मेटाबोलिज्म (उपापचय ) की प्रक्रिया में मदद करता है ।

किन्नू के सेवन बढ़ती उम्र के संकेत कम होते हैं, कैंसर की रोकथाम , डिटॉक्सिफिकेशन  (विष हरण), रक्तचाप और रक्त संचार में सुधार , शरीर की सूजन कम करने और कोलेस्ट्रॉल घटाने में भी मदद मिलती है।

सेहत का खजाना है किन्नू

किन्नू न केवल विटामिन सी का अच्छा स्त्रोत है बल्कि इसमें उपचार का खजाना भी छिपा हुआ है विटामिन सी प्राथमिक एंटी ऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है और शरीर में मौजूद खराब तत्वों को या तो नष्ट करता है या फिर उसे नुकसान पहुंचाने से रोकता है।

विटामिन सी एक महत्वपूर्ण प्रोटीन कॉलेजन का एक महत्वपूर्ण कारक है जो कोशिकाओं की मरम्मत और शरीर में नए टिशू बनाने के लिए बेहद जरूरी है।

किन्नू में मौजूद विटामिन-ए विषहरण में मददगार

किन्नू में विटामिन सी के अलावा विटामिन-ए भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो मध्यम एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है और शरीर से जहर बाहर निकालने में मददगार है । दरअसल विटामिन -ए से गुर्दे के काम  डिटॉक्सिफिकेशन (विषहरण) में तेज़ी आती है।

भोजन में विटामिन -ए शामिल करने से आप रतौंधी (night blindness) और मांसपेशियों की कमजोरी (muscular degeneration ) से भी बच सकते हैं।

ब्लड प्रेशर को कम करने और रक्त संचार में मददगार है किन्नू

किन्नू में पानी में घुल जाने वाला एक प्लांट कंपाउंड पाया जाता है जिससे हमारी छोटी रुधिर धमनियों की कार्यप्रणाली और गतिविधि प्रभावित होती है । किन्नू खाने से ब्लड प्रेशर ( रक्तचाप) कम होता है और दिल की बीमारियों का खतरा कम होता है।

किन्नू खाने से न केवल ब्लड प्रेशर कम होता है बल्कि इसमें मौजूद फोलेट ( विटामिन B9) के कारण रक्त संचार में भी तेजी आती है। विटामिन B9 से डीएनए और नई कोशिकाएं पैदा करने के लिए महत्वपूर्ण है।

फोलेट कोशिकाओं की रक्षा और लाल रुधिर कणिकाएं पैदा करता है । यह रक्त प्रवाह में भी मददगार है  और इसकी मौजूदगी से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता और समूचे शारीरिक तंत्र की कार्यकुशलता बढ़ती है।

शरीर में सूजन (inflammation) कम करता है किन्नू

किन्नू को एंटी इन्फ्लेमेटरी एजेंट यानी के सूजन कम करने वाला कारक माना जाता है । किन्नू  शरीर में  सूजन कम करके शरीर में इंसुलिन पहुचाने में भी मददगार है।

शरीर में सूजन कम होने और इंसुलिन की  सही मात्रा पहुंचने से दिल की रक्षा होती है । दूसरे अर्थों में समूचा कार्डियोवैस्कुलर तंत्र मजबूत होता है।

कोलेस्ट्रोल का स्तर संतुलित करता है किन्नू

अनुसंधान से सामने आया है कि किन्नू खाने से न केवल हानिकारक कॉलेस्ट्रोल का प्रभाव कम होता है बल्कि यह शरीर में अच्छा कॉलेज को बनाने में भी मददगार है। किन्नू के सेवन से अथेरोस्क्लेरोसिस,दिल का दौरा और स्ट्रोक (हृदयाघात) का खतरा भी कम होता है।

बढ़ती उम्र को रोकता है किन्नू में मौजूद विटामिन -सी

किन्नू में मौजूद विटामिन -सी एंटी एजिंग यानी बढ़ती उम्र रोकने में मददगार है। लगातार किन्नू खाने से बढ़ती उम्र के साथ चेहरे और बाकी हिस्सों में पड़ने वाली झुर्रियों को रोका जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here