बिना बताये उसकी मोबाइल फोन काल रिकॉर्ड करना गैर कानूनी है

पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने कहा है कि पति या पत्नी में से कोई अगर एक दूसरे को बिना बताए मोबाइल कॉल रिकॉर्ड करता है तो यह गैरकानूनी है और निजता के अधिकार (Right To Privacy) का उल्लंघन है।

कोर्ट ने यह व्यवस्था हरियाणा के पंचकुला की एक महिला द्वारा दाखिल की गई याचिका के आधार पर दी ।

याचिकाकर्ता  ने कोर्ट को बताया था कि पति के साथ उसकी अनबन चल रही है और उसका पति 4 साल की बेटी को अपने साथ लेकर चला गया है जबकि मामला फैमिली कोर्ट के विचाराधीन है । इसलिए फैसला आने तक चार साल की बेटी की कस्टडी उसे सौंपी जाए ।

क्रूरता साबित करने के लिए पति करता था फोन कॉल रिकॉर्ड

याचिकाकर्ता महिला ने कोर्ट को बताया था कि पति उसकी क्रूरता साबित करने के लिए उसकी फोन कॉल रिकॉर्ड करता था जो उसने सबूत के तौर पर भी कोर्ट में पेश की है।

कोर्ट ने आरोपी पति को फटकार लगाते हुए कहा कि पत्नी का फोन कॉल रिकॉर्ड करना गैरकानूनी है भले ही वह सबूत के लिए किया गया हो ।

उधर कोर्ट ने याचिकाकर्ता महिला की अपील का निपटारा करते हुए फैमिली कोर्ट का फैसला आने तक पति को बेटी की कस्टडी याचिकाकर्ता को देने के आदेश दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here