• रिज़र्व बैंक ने RTGS और NEFT शुल्क हटाया
  • डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए लिया गया फैसला

भारतीय रिजर्व बैंक ने आरटीजीएस और एनईएफटी सेवाओं पर लिए जा रहे शुल्क को खत्म किया कर दिया है ।

यह फैसला डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के नजरिए से लिया गया है।

आरटीजीएस यानी रियल टाइम ग्रॉस सेटेलमेंट सिस्टम सिस्टम का इस्तेमाल बड़े लेन-देन के लिए जबकि नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी ) का इस्तेमाल दो लाख रुपये तक के लेनदेन के लिए किया जाता है।

इस लेनदेन के लिए रिजर्व बैंक एनईएफटी के लिए ₹1 से लेकर ₹5 और आरटीजीएस के लिए ₹5 से ₹50 लिए ₹5 से ₹50 के बीच शुल्क लेता था।

हालांकि बैंकों को आरटीजीएस और एनईएफटी शुल्क हटाने के लिए अभी एक हफ्ते का समय लगेगा।

रिजर्व बैंक से जुड़े सूत्रों के मुताबिक बैंक ने एटीएम के इस्तेमाल को लेकर भी एक कमेटी का गठन किया है जो एटीएम के इस्तेमाल को लेकर वसूले जा रहे शुल्क पर अपनी राय देगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here