जैसी ही आपको पता चलता है कि आप मधुमेह यानी डायबिटीज से पीड़ित हैं तो सबसे पहले आपके खाने पर पाबंदी लग जाती है ।आप मिठाई -चॉकलेट खाना तो दूर फल भी ठीक से नहीं खा सकते।

यानी जैसे ही आप इस बीमारी की चपेट में आते हैं उसके बाद आपको क्या खाना है, कब खाना है और कैसे खाना है इस पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत रहती है।

डायबिटीज के रोगियों को फाइबर यानी रेशे युक्त फल -सब्जियां खाने की सलाह दी जाती है और उनको कम मीठे फल जिसमें शुगर की मात्रा कम हो खाने की सलाह दी जाती है। यानी डायबिटिक लोगों के लिए संतरा, नींबू, कीवी, स्ट्रॉबेरी या अमरूद खाना फायदेमंद रहता है। लेकिन जैसे-जैसे रिसर्च आगे बढ़ रही है इन फलों को खाना भी आसान नहीं है।

अमरूद के छिलके में मौजूद है शुगर

अमरूद विटामिन ए, बी और सी का अच्छा स्त्रोत है ।लेकिन इलाहाबाद विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अनुसंधान से पता चला है अमरूद के छिलके में  ग्लूकोस पाया जाता है।

अनुसंधान में सामने आया है कि अमरूद को छिलके समेत खाने से अचानक ख़ून में शुगर का स्तर बढ़ जाता है। इसलिए अगर मधुमेह से पीड़ित लोगों को अमरुद खाना है तो छिलका निकाल कर खाना सही रहेगा।

अमरूद के साथ कुछ और भी खाएं

फलों में शुगर की मात्रा मौजूद रहती है और 100 ग्राम वजन के अमरुद में 9 ग्राम शुगर पाई जाती है। हालांकि एक स्वस्थ व्यक्ति बिना  छीले या इस फल को अकेले ही खा सकता है लेकिन जिन लोगों को डायबिटीज की शिकायत है उनको अकेला फल खाने की सलाह नहीं दी जाती क्योंकि फलों में फाइबर यानी रेशा होता है जो देरी से  पचता है।

मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति को अकेला फल खाने की सलाह इसलिए नहीं दी जाती क्योंकि वह एक तो देरी से पचता है दूसरे पचते ही शरीर खून में शुगर का स्तर बढ़ जाता है।

शरीर में शुगर देरी से और कम मात्रा में पहुचे इसलिए फल को आप   प्रोटीन युक्त वस्तुओं जैसे दही या पनीर  के साथ खा सकते हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here