कोल्ड ड्रिंक्स के लगातार सेवन से न केवल हमारा वजन बढ़ता है बल्कि हमारी हड्डियां भी कमजोर होती हैं। उधर अब तक कई अनुसंधान यह साबित कर चुके हैं कि अगर नियंत्रित मात्रा में बीयर का सेवन किया जाए तो वह स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है।

बियर अल्कोहल की दूसरी ड्रिंक्स के मुकाबले ज्यादा फायदेमंद:

हमने यह तो सुना है कि वाइन में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं लेकिन शायद आपको नहीं मालूम कि बियर में उससे कहीं ज्यादा होते हैं।

बियर में वाइन की तुलना में ज्यादा प्रोटीन और विटामिन बी मौजूद होता है ।अगर बियर्स अच्छी किस्म की है तो उसमें आयरन ,कैल्शियम और फास्फोरस के अलावा फाइबर भी मौजूद रहता है।

बियर आपके दिल की रक्षा करता है

अनुसंधान ने साबित किया है कि अगर बियर को कम मात्रा में दिया जाए तो हर्ट अटैक यानी दिल का दौरा पड़ने के की संभावना 30 से 35 फीसदी तक कम हो जाती है। हालांकि शराब पीने को बुरा माना जाता है लेकिन अनुसंधान से साबित हो चुका है कि संयमित तरीके से किया गया सेवन दिल की बीमारियों से बचाता है।

गुर्दे की पथरी से बचाता है बियर

बियर के सेवन से गुर्दे की पथरी होने का खतरा नहीं होता ।अनुसंधान से पता चला है कि जो पुरुष और महिला बीयर पीते हैं उनमें गुर्दे में पथरी बनने की संभावना 41 फ़ीसदी कम हो जाती है ।बियर में हॉप्स जैसी जड़ी बूटियां मौजूद रहती हैं जो शरीर में फाइटोकेमिकल्स की मात्रा बढ़ाती हैं ।

बीयर पीने से कॉलेस्ट्रोल रहता है नियंत्रण में

बियर के सेवन से कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का खतरा कम होता है क्योंकि बियर में एक घुलनशील फाइबर मौजूद रहता है जो कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। इसके अलावा बियर ब्लड शुगर और ब्लड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी नियंत्रित रखता है ।हालांकि ज्यादा बियर का सेवन विटामिंस और मिनरल्स को पचाने में मदद नहीं करता।

बियर  के सेवन से मजबूत होती हैं हड्डियां

आपको बता दें कि बियर मीठे पेय पदार्थों जैसे कोल्ड ड्रिंक्स आदि से कहीं बेहतर है ।क्योंकि इसमें मौजूद सिलिकॉन कॉन्टेंट हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है ।

बियर में डाइटरी सिलिकॉन मौजूद होता है जो ऑर्थो सिलिसिस एसिड का एक रूप है जो हड्डियों और उनको जोड़ने वाले टिश्यू के विकास में मददगार है ।बियर के सेवन से ओस्टीयोपोरोसिस नामक बीमारी नहीं होती। इस बीमारी में मरीज की हड्डियां कमजोर होकर चटकने नहीं लगती है लगती है।

बियर पीने से कम होता है तनाव

रिसर्च में साबित हो चुका है कि दिन में बियर के दो गिलास पीने से काम से जुड़ा हुआ तनाव कम होता है। हालांकि अल्कोहल वाली ड्रिंक्स का सेवन प्रतिदिन करने से बचना चाहिए क्योंकि इससे भविष्य में कई मानसिक बीमारियां जैसे एंजायटी, स्ट्रेस और डिप्रेशन हो सकता है।

बियर पीने से बढ़ सकती है यादाश्त

बियर में मौजूद हॉप्स नामक जड़ीबूटी के भीतर एक ऐसा गुणकारी तत्व मौजूद होता है जो कॉग्निटिव फंक्शन को मजबूत करता है।बियर में मौजूद फ्लेवोनॉयड यादाश्त को कमजोर होने से बचाता है। खासकर डिमेंशिया नामक बीमारी के दौरान यह रसायन दिमाग की कोशिकाओं को नष्ट होने से बचाता है।

संज्ञानात्मक शक्ति में बढ़ोतरी करता है बियर का सेवन

अमेरिकन जर्नल ऑफ एपिडेमियोलॉजी के मुताबिक बियर के सेवन से हमारी कॉग्निटिव फंक्शन यानी संज्ञानात्मक शक्ति बढ़ती है। संज्ञानात्मक शक्ति का मतलब मानसिक कार्यप्रणाली जैसे कोई काम करना ध्यान देना आदि शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here